Saturday, 18 February 2017

कमाई


"पाँच रुपये का गम देना" . . 
स्टेशनरी की दुकान पर  
एक बच्चे ने कहा  . . 
तो हँसी आ गई !

मन में सोचा -
बच्चा है !
तब ही 
पैसे देकर 
ग़म खरीद रहा है !

मासूम है !
दुनिया की 
रवायतों से 
अनजान है,
सो ग़म का 
सही इस्तमाल करना 
जानता है !
ग़म पचाना 
जानता है !
सो पैसे देकर 
ग़म खरीदने की हिमाक़त 
कर रहा है !

बड़ा होता 
तो कहता  . . 
भई खरीदना ही है 
तो खुशी खरीदो !
दिल का सुकून खरीदो !
ग़म तो मुफ़्त में 
मिलता है !
बिन बुलाया 
मेहमान है !
आ जाए तो फिर           
जाने का नाम ना ले !
और खुशी ?
ढूँढ़े से नहीं मिलती !

वही तो !
वो बच्चा है  . . 
उसे भी पता है,
खरीदने से
खुशी नहीं मिलती !
ये बाज़ार में 
बिकने वाली 
चीज़ नहीं !

ये नियामत है -
खुशी और 
दिल का सुकून !
अपनी मेहनत से और  
अपनों की दुआओं से 
फलती है !
ये मिलती नहीं,
कमाई जाती है !  

       

नमस्ते